Ramayan : Bharat charitra in hindi part 4

Ramayan : Bharat charitra in hindi part 4 रामायण : भरत चरित्र पार्ट 4 पिछले पार्ट में आपने राम और भरत मिलाप को पढ़ा। इसके दो दिन बाद श्री रामचन्द्रजी प्रीति के साथ गुरुजी से बोले- हे नाथ! सब लोग यहाँ अत्यन्त दुःखी हो रहे हैं। कंद, मूल, फल और जल का ही आहार करते हैं। […]

Continue reading