Jad Bharat Story in hindi

Jad Bharat Story in hindi

जड़ भरत की कहानी/कथा 

श्री जड़ भरत जी महाराज के 3 जन्मों का श्रीमद् भागवत पुराण में वर्णन है। जो इस प्रकार है—

 

श्री ऋषभ देव जी के 100 पुत्र थे जिनमें सबसे बड़े भरत जी थे। इन्होंने अपने पुत्र भरत को राजगद्दी सोंप दी। इनका विवाह विश्वरूप की कन्या पञ्चजनी से हुआ। इनके 5 पुत्र हुए- सुमति, राष्ट्रभृत, सुदर्शन, आवरण और धूम्रकेतु। पहले भारत को अजनाभवर्ष कहते थे लेकिन राजा भरत के समय से “भारतवर्ष” कहा जाने लगा।

 

इन्होंने बड़े अच्छे से प्रजा का पालन किया और ये बहुत अच्छे राजा साबित हुए। एक करोड़ वर्ष बीत जाने पर इन्होंने राज्य अपने पुत्रों में बाँट दिया। और खुद पुलहाश्रम(हरिहरक्षेत्र) में आ गए। यहाँ पर गंडकी नाम की नदी थी उसकी तलहटी में शालिग्राम जी मिलते हैं। वहीँ पर भगवान का ध्यान करते, पूजा पाठ करते और कंद मूल से भगवान की आराधना करते। इस तरह ये भगवान में मन को लगाए रहते।
एक बार भरतजी गण्डकी में स्नान कर रहे थे तो इन्होंने देखा की एक गर्भवती हिरनी पानी पीने के लिए नदी के तट पर आई। अभी वह पानी पी ही रही थी कि पास ही गरजते हुए सिंह की लोक भयंकर दहाड़ सुनायी पड़ी। जैसे ही उसने शेर की दहाड़ सुनी तो वह डर गई और उसने नदी पार करने के लिए छलांग लगा दी। उसी समय उसके गर्भ से मृगशावक बाहर आ गया और नदी में गिर गया। हिरनी ने भी नदी पार की और डर के मरे गुफा में मर गई।

 

 

भरत जी ने देखा की हिरनी का बच्चा नदी में बह रहा है। उन्हें बड़ी दया आई और कूदकर उस हिरन के बच्चे को बचा लिया और अपने आश्रम पर ले आये। वे बड़े प्यार से उस हिरनी के बच्चे का पालन करने लगे। वो हिरन भी अब भरत जी को ही अपना सब कुछ समझने लगा। लेकिन भरत जी एक गलती कर गए ।उनका मन भगवान की पूजा से हटकर उस हिरन के बच्चे में आशक्त हो गया। हरिन के बच्चे में आसक्ति बढ़ जाने से बैठते, सोते, टहलते, ठहरते और भोजन करते समय भी उनका चित्त उसके स्नेहपाश में बँधा रहता था। क्योकि मन एक है या तो आप इसे संसार में लगा लो या भगवान में।

 

अब वो जो भी भगवान का पूजा पाठ करते तो उस समय उन्हें उस हिरन के बच्चे की याद आ जाती। कहीं उसे कोई कुत्ता, या सियार या भेड़िया खा न जाये। अगर भरत जी को वह दिखाई नही देता तो उनकी दशा ऐसे हो जाती की किसी का सारा धन लूट गया हो। भरत जी को उसके रहने की, खाने की और सोने की चिंता लगी रहती थी।

 

एक दिन ऐसा आया की भरत जी अपने दैनिक कर्म में लगे हुए थे वहां हिरनों का झुंड आया और वह हिरन का बच्चा उनके साथ चला गया। जब भरत जी को हिरन का बच्चा कहीं भी नही मिला तो उसे निरंतर उस हिरन की याद सताने लगी। काल का प्रभाव हुआ भरत जी की मृत्यु हुई। मृत्यु के समय भरत जी उस हिरन का ही चिंतन कर रहे थे। इस कारण उन्हें अगला जन्म कालिंजर पर्वत पर एक हिरनी के गर्भ से हुआ।

 

Jad Bharat ka Dusra Janam : जड़ भरत का दूसरा जन्म 

भरत जी हिरन बन गए लेकिन उन्हें अपने पूर्वजन्म की याद बनी हुई थी क्योकिं वो पूर्वजन्म में इतना भजन कर चुके थे। हिरन बनकर भरत जी सोच रहे थे की ” पिछले जन्म में मैंने कितनी बड़ी भूल कर दी। अपने सब परिवार को छोड़कर मैं भगवान का भजन करने के लिए वन में आया था लेकिन मैं उस हिरन में इतना आशक्त हो गया की मुझे हिरन की योनि प्राप्त हो गई।

 

एक दिन उन्होंने अपनी माता मृगी को त्याग दिया और अपनी जन्मभूमि कालंजर पर्वत से वे फिर शान्त स्वभाव मुनियों के प्रिय उसी शालग्राम तीर्थ में, जो भगवान् का क्षेत्र है, पुलस्त्य और पुलह ऋषि के आश्रम पर चले आये। वहाँ रहकर भी वे काल की ही प्रतीक्षा करने लगे। जैसा रुख सूखा उन्हें मिल जाता था वे खा लेते थे। अन्त में उन्होंने अपने शरीर का आधा भाग गण्डकी के जल में डुबाये रखकर उस मृग शरीर को छोड़ दिया ।

अगले पेज पर जाइये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.