Shayari- Insaan Ki Majburi

Shayari- Insaan Ki Majburi

शायरी – इंसान की मज़बूरी

हैलो दोस्तों, आज आपके सामने एक मजबूर शख्स की शायरी पेश कर रहे हैं। जिसे पीएचडी/ इंग्लिश लेक्चरर डॉ.सोनू सिंह ढांडा(Sonu Singh Dhanda) ने लिखा है।

मजबूर शख्स : Majbur Shaksh 

क्या हुआ जो उसे कोई याद नहीं करता,
खुले दिल से उसके लिए फरियाद नहीं करता।

कुछ तो खास बात होगी उस शख्स में भी,
जो इसके लिए किसी से तकरार नहीं करता।

कमी रही होगी नौकरों की करनी में भी,
जो मांगे पूरी उनकी, उनका सरकार नहीं करता।

साईकिल पे ही बिता दी सारी ज़िन्दगी अपनी,
आखिर क्यों वो कभी, बात-ए-कार नहीं करता।

घर बड़ा नहीं, लेकिन अच्छा था उसका,
फिर कोई क्यों उसके घर, बसर नहीं करता।

बीमार नहीं है वो, पर दवा चाहिए उसे,
लेकिन इल्म कोई शरीर पर, असर नहीं करता।

This Shayari is written by Mr. Sonu Singh Dhanda(सोनू सिंह ढांडा).

 

Read : राधा कृष्ण की सबसे प्रसिद्ध शायरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.