Satguru: Gurudev Bhajans in hindi

Jo Saran Guru ki aaya , ieh lok sukhi parlok sukhi

 

सुख का साथी सब जगत,, दुख का नाही कोय ।    
दुःख का साथी साइयां, केवल सदगुरु होय ॥”      

 

जो शरण गुरु की आया, इह लोक सुखी परलोक सुखी ।           
जिसने गुरु ज्ञान पचाया, इह लोक सुखी परलोक सुखी ॥       

 

रामायण में शिवजी कहते, भागवत में शुकदेवजी कहते ।         
गुरुवाणी में नानक कहते,, जिसने हरी नाम कमाया ॥         
इह लोक सुखी परलोक सुखी …….                                            

 

चिंता और भय मिट जाए, दुनिया के बंधन हट जाये ,         

संकट के बादल छंट जाये, जिसने गुरु को अपनाया         
इह लोक सुखी परलोक सुखी ……..                                         

 

साँसों में हो प्रभु का सुमिरन, और मन में गुरुवर का चिंतन ।      
फिर कैसा माया का बंधन, जिसे द्वार गुरु का भाया।
इह लोक सुखी परलोक सुखी ……..

 

जो सत्संग में आ जायेंगे, वो गुरु कृपा पा जायेंगे

भाव सागर से तर जायेगे, जिसने जग को ठुकराया॥

इह लोक सुखी परलोक सुखी ……..

 

जो शरण गुरु की आया, इह लोक सुखी परलोक सुखी
जिसने गुरु ज्ञान पचाया, इह लोक सुखी परलोक सुखी

 

“sukh ka sathi sab jagat dukh ka naahi koy

dukh ka sathi saiyan keval sadguru hoye”

jo sharan guru ki aaya, ieh lok sukhi parlok sukhi

jisne guru gyan pachapaya ieh lok sukhi parlok sukhi”

 

Ramayan me shiv ji kehte, bhaagwat me sukhdev ji kehte

guruvani me nanak kehte, jisne hari naam kamaya

ieh lok sukhi parlok sukhi….

 

 

Chinta or bhye sab mit jaye, dunia ke bandhan hat jaye

sankat ke baadal chat jaye, jisne guru ko apnaya

ieh lok sukhi parlok sukhi…..

 

 

saanso me ho parbhu ka sumiran, or mann me guruvar ka chintan

phir kaisa maya ka bandhan, jise dwar guru ka bhaya

ieh lok sukhi parlok sukhi….

 

jo satsang me aa jayenge , vo guru kirpa pa jayenge

bhav sagar se tar jayenge , jisne jag ko tukraya

ihe lok sukhi parlok sukhi….

 

Mile Satguru Zindagi mil gai hai bhajan

मिले सतगुरु ज़िन्दगी मिल गई है, की मुरझाये दिल की कली खिल गई है।

मिले सतगुरु ज़िन्दगी मिल गई है, की मुरझाये दिल की कली खिल गई है॥

 

ये एहसान सतगुरु का हम पर हुआ है की मन का अँधेरा सभी मिट गया है।

हमे ज्ञान की रौशनी मिल गई है की मुरझाये दिल की कली खिल गई है॥1॥

 

न पाया जिसे दिल की वीरानियों में , ना दुनिया के ऐश और समानियों में।

गुरुचरणों में वो ख़ुशी मिल गई है की मुरझाये दिल की कली खिल गई है॥2॥

 

चरणो में आके जो सर को झुकाया की संसार का मैंने हर सुख है पाया।

हमे आज खुश किस्मती मिल गई है की मुरझाये दिल की कली खिल गई है॥3॥

 

ज़माने ने हमको सताया बहुत था की दुखो ने हमको रुलाया बहुत था।

मगर आपसे वो हसी मिल गई है की मुरझाये दिल की कली खिल गई है॥4॥

 

Mile satguru zindagi mil gai hai ki murjhaye dil ki kali khil gai hai,

Mile satguru zindagi mil gai hai ki murjhaye dil ki kali khil gai hai.

 

Ye ehsaan Satguru ka hum per hua hai, Ki mann ka andhera sabhi mit gaya hai,

hamey gyan ki roshni mil gai hai ki murjhaye dil ki kali khil gai hai.

 

Na paya jise dil ki viraniyon me na duniya ke aish or samaniyon me,

gurucharno me vo khusi mil gai hai ki murjhaye dil ki kali khil gai hai.

 

Charno me aake jo sar ko jhukaya ki sansar ka maine har sukh hai paaya,

hamey aaj khus kismati mil gai hai , ki murjhaye dil ki kali khil gai hai.

 

jamane ne humko sataya bahut tha ki dukho ne humko rulaya bahut tha,

magar aapse vo hansi mil gai hai ki murjhaye dil ki kali khil gai hai .

 

Read More- Guru Mahima: Guru Purnima

 

 

 

 

 

 

7 thoughts on “Satguru: Gurudev Bhajans in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.