Kya Karmo Ka Fal Sabko Milta hai ?

Kya Karmo Ka Fal Sabko Milta hai ?

क्या कर्मों का फल सबको भोगना पड़ता है? 

 

Kya sabko karmo ka fal milta hai? vo fal kaisa hota hai? kya karam se koi bach sakta hai? क्या सबको कर्मों का फल मिलता है? वो फल कैसा होता है? क्या कोई कर्म फल से बच सकता है? ये सब सवाल दिमाग में धूमते रहते हैं। कई बार हम गलत काम ये सोचकर कर देते हैं कि कोई देख नहीं रहा है। लेकिन वास्तव में हमारा एक एक कर्म नोट हो रहा है। रामचरितमानस में एक बात बड़ी सुंदर आई है। चोपाई है। आप याद कर लेना और जीवन भर याद रखना। बहुत काम आएगी आपके।

कर्म प्रधान विश्व करि राखा, जो जस करहिं सो तस फल चाखा।
अर्थ : विश्व में कर्म को ही प्रधान कर रखा है। जो व्यक्ति जिस तरह का कर्म करता है, उसे फल भी उसी के अनुरूप मिलता है।

Read : हमारे पाप दूर क्यों नहीं होते?

 

मोरारी बापू ने मानस महिम्ना लंदन राम कथा में भी एक बात बड़ी सुंदर बोली और काफी जोर देकर बोली है। कई बार लोग सोचते हैं हम भगवान को याद करते हैं तो क्या हमें कर्मों का फल मिलेगा? तो इसी बात पर उनको जवाब दिया गया है। जो उन्ही के शब्दों में आपके सामने पेश किया जा रहा है।

मोरारी बापू कह रहे हैं कि —

युवान भाई बहन याद रखना …कर्म का फल ब्रह्म के बाप को भी भोगना पड़ता है। दशरथ ब्रह्म(राम) का बाप है।

हम और आप किस खेत की मूली हैं ??

इसलिये कोई भी कर्म करने से पहले आदमी थोड़ा जागृत रहे ..तो ज़्यादा अच्छा है।
बापू के शब्द
मानस महिम्न
जय सियाराम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.