how to do worship of god? Bhakti Types

how to do worship of god? Bhakti Types

Bhagwan ki bhakti kitne parkar ki hai? Bhagwan ki bhakti kaise ki jati hai. Bhagwan bhakti se kaise milege?

in sabhi ke jawab ke liye aapke liye bhagwan ne kitna sunder bataya hai.  Dhyan se padhiye –

Bhakt kitne parkar ki hoti hai? Navadha bhakti kya hai?

भक्ति कितने प्रकार की होती है?

 

प्राचीन शास्त्रों में भक्ति के 9 प्रकार बताए गए हैं जिसे नवधा भक्ति कहते हैं।

 

श्रवणं कीर्तनं विष्णोः स्मरणं पादसेवनम्।

अर्चनं वन्दनं दास्यं सख्यमात्मनिवेदनम् ॥

 

श्रवण (परीक्षित), कीर्तन (शुकदेव), स्मरण (प्रह्लाद), पादसेवन (लक्ष्मी), अर्चन (पृथुराजा), वंदन (अक्रूर), दास्य (हनुमान), सख्य (अर्जुन) और आत्मनिवेदन (बलि राजा) – इन्हें नवधा भक्ति कहते हैं।

 

श्रवण: ईश्वर की लीला, कथा, महत्व, शक्ति, स्त्रोत इत्यादि को परम श्रद्धा सहित अतृप्त मन से निरंतर सुनना।

 

कीर्तन: ईश्वर के गुण, चरित्र, नाम, पराक्रम आदि का आनंद एवं उत्साह के साथ कीर्तन करना।

 

स्मरण: निरंतर अनन्य भाव से परमेश्वर का स्मरण करना, उनके महात्म्य और शक्ति का स्मरण कर उस पर मुग्ध होना।

 

पाद सेवन: ईश्वर के चरणों का आश्रय लेना और उन्हीं को अपना सर्वस्य समझना।

 

अर्चन: मन, वचन और कर्म द्वारा पवित्र सामग्री से ईश्वर के चरणों का पूजन करना।

 

वंदन: भगवान की मूर्ति को अथवा भगवान के अंश रूप में व्याप्त भक्तजन, आचार्य, ब्राह्मण, गुरूजन, माता-पिता आदि को परम आदर सत्कार के साथ पवित्र भाव से नमस्कार करना या उनकी सेवा करना।

 

दास्य: ईश्वर को स्वामी और अपने को दास समझकर परम श्रद्धा के साथ सेवा करना।

 

सख्य: ईश्वर को ही अपना परम मित्र समझकर अपना सर्वस्व उसे समर्पण कर देना तथा सच्चे भाव से अपने पाप पुण्य का निवेदन करना।

 

आत्म निवेदन: अपने आपको भगवान के चरणों में सदा के लिए समर्पण कर देना और कुछ भी अपनी स्वतंत्र सत्ता न रखना। यह भक्ति की सबसे उत्तम अवस्था मानी गई हैं।

3 thoughts on “how to do worship of god? Bhakti Types

  1. अपने अंतर आत्मा द्वारा 【अपने इस कमल रूपी मनआत्मा के द्वारा की हुई भगवान की पूजा सर्बोउतम पूजा मानी जाती है】जिसे हम मानस पूजा कहते है।

  2. they are.
    Vedi Bhakti. or navdha bhakti.
    Raganuga bhakti.
    raagatmika bhakti.
    and the category of Vedi bhakti i
    sadhna bhakti.
    siddha bhakti

Leave a Reply to अखिलेश उपाध्याय Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.