Diwali Pujan vidhi in hindi

Diwali Pujan vidhi in hindi

दिवाली पूजन विधि

दिवाली या दीपावली भारत का प्रमुख त्यौहार है। यह प्रकाश का त्यौहार है। इस त्यौहार को मानाने के लिए कई कथाएं प्रचलित हैं। धनतेरस से इसकी रौनक प्रारम्भ हो जाती है। अगले दिन नरक चतुर्दशी होती है। और अमावस्या के दिन अर्थात दिवाली वाले दिन इसकी रौनक चरम सीमा पर होती है। इस दिन लक्ष्मी के पूजन का विशेष विधान है। क्योंकि इस दिन लक्ष्मी जी समुद्र मंथन के दौरान प्रकट हुई थी।

Laxmi, Ganesh and Saraswati pujan : लक्ष्मी, गणेश और सरस्वती पूजन 

रात्रि के समय प्रत्येक घर में धनधान्य की अधिष्ठात्री देवी महालक्ष्मीजी, विघ्न-विनाशक गणेश जी और विद्या एवं कला की देवी माँ सरस्वती देवी की पूजा-आराधना की जाती है।

गणेश जी प्रथम पूजनीय हैं इसलिए गणेश जी का पूजन होता है। इसके साथ साथ गणेश जी ऋद्धि सीधी के भी स्वामी हैं। माँ लक्ष्मी से हमें धन प्राप्त होता है। धन की जरुरत सभी को होती है।  माँ सरस्वती जी से ज्ञान, संगीत और कला की प्राप्ति होती है।

 

Laxmi Mata Story 1 on Diwali  : लक्ष्मी माता कथा 1 (दिवाली )

एक अन्य लोक कथा के अनुसार देवी लक्ष्मी इस रात अपनी बहन दरिद्रा के साथ भू-लोक की सैर पर आती हैं। जिस घर में साफ सफाई और स्वच्छता रहती है वहां मां लक्ष्मी अपने कदम रखती हैं और जिस घर में ऐसा नहीं होता वहां दरिद्रा अपना डेरा जमा लेती है। ब्रह्मपुराण के अनुसार कार्तिक अमावस्या(दीपावली) की इस रात स्वयं धरती लोक पर आती हैं और प्रत्येक सद्गृहस्थ के घर में विचरण करती हैं। जो घर हर प्रकार से स्वच्छ, शुद्ध और सुंदर तरीक़े से सुसज्जित और प्रकाशयुक्त होता है वहां अंश रूप में ठहर जाती हैं।

 

Laxmi mata story 2 on Diwali : लक्ष्मी माता कथा 2 (दिवाली)

एक बार सनत्कुमारजी ने सभी महर्षि-मुनियों से कहा- ‘महानुभाव! कार्तिक की अमावस्या को प्रात:काल स्नान करके भक्तिपूर्वक पितर तथा देव पूजन करना चाहिए। उस दिन रोगी तथा बालक के अतिरिक्त और किसी व्यक्ति को भोजन नहीं करना चाहिए।

सन्ध्या समय विधिपूर्वक लक्ष्मीजी का मण्डप बनाकर उसे फूल, पत्ते, तोरण, ध्वज और पताका आदि से सुसज्जित करना चाहिए। अन्य देवी-देवताओं सहित लक्ष्मी जी का षोडशोपचार पूजन तथा पूजनोपरांत परिक्रमा करनी चाहिए। मुनिश्वरों ने पूछा- ‘लक्ष्मी-पूजन के साथ अन्य देवी-देवताओं के पूजन का क्या कारण है?’
इस सनत्कुमारजी बोले -‘लक्ष्मीजी समस्त देवी-देवताओं के साथ राजा बलि के यहाँ बंधक थीं। आज ही के दिन भगवान विष्णु ने उन सबको बंधनमुक्त किया था। बंधनमुक्त होते ही सब देवता लक्ष्मी जी के साथ जाकर क्षीर-सागर में सो गए थे। इसलिए अब हमें अपने-अपने घरों में उनके शयन का ऐसा प्रबन्ध करना चाहिए कि वे क्षीरसागर की ओर न जाकर स्वच्छ स्थान और कोमल शैय्या पाकर यहीं विश्राम करें।

जो लोग लक्ष्मी जी के स्वागत की उत्साहपूर्वक तैयारियां करते हैं, उनको छोड़कर वे कहीं भी नहीं जातीं। 

 

Read :  All Stories/Kathas for Diwali in hindi : दिवाली कथाएं/कहानियां
इसलिए इस दिन घर-बाहर को ख़ूब साफ-सुथरा करके सजाया-संवारा जाता है। दीपावली मनाने से लक्ष्मीजी प्रसन्न होकर स्थायी रूप से सद्गृहस्थों के घर निवास करती हैं।
दीपावली पर लक्ष्मीजी का पूजन घरों में ही नहीं बल्कि दुकानों और व्यापारिक प्रतिष्ठानों में या यु कहें हर जगह किया जाता है। धार्मिक दृष्टिकोण से आज के दिन व्रत रखना चाहिए और मध्यरात्रि में लक्ष्मी-पूजन के बाद ही भोजन करना चाहिए। इस दिन प्रदोष काल में पूजन करके जो स्त्री-पुरुष भोजन करते हैं, उनके नेत्र वर्ष भर निर्मल रहते हैं।

कार्तिक मास की अमावस्या के दिन भगवान विष्णु क्षीरसागर की तरंग पर सुख से सोते हैं और लक्ष्मी जी भी दैत्य भय से विमुख होकर कमल के उदर में सुख से सोती हैं। इसलिए मनुष्यों को सुख प्राप्ति का उत्सव विधिपूर्वक करना चाहिए।

 

Laxmi mata Pujan Vidhi : लक्ष्मी माता पूजन विधि 

 

महालक्ष्मी पूजन में केसर, रोली, चावल, पान, सुपारी, फल, फूल, दूध, खील, बताशे, सिंदूर, सूखे मेवे, मिठाई, दही, गंगाजल, धूप, अगरबत्ती, दीपक, रूई तथा कलावा, नारियल और तांबे का कलश चाहिए।

इस दिन लक्ष्मी जी को लाल रंग के कमल के फूल चढ़ाना विशेष रूप से शुभ फलदायी होता है। दीपावली के दिन दक्षिणावर्ती शंख का पूजन अत्यंत शुभ माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस शंख की उत्पत्ति समुद्र मंथन से हुई है।
शंख पूजन से लक्ष्मी जी प्रसन्न होती हैं। इस दिन शंख पर अनामिका अंगुली से पीला चंदन लगाकर पीले पुष्प अर्पित करके और पीले रंग के नैवेद्य का ही भोग लगाना चाहिए। इससे परिवार में स्वास्थ्य और समृद्धि बनी रहती है।
लक्ष्मी जी के पूजन के लिए घर की साफ-सफ़ाई करके दीवार को गेरू से पोतकर लक्ष्मी जी का चित्र बनाया जाता है। लक्ष्मीजी का चित्र भी लगाया जा सकता है।
शाम के समय भोजन में स्वादिष्ट व्यंजन, केला, पापड़ तथा अनेक प्रकार की मिठाइयाँ होनी चाहिए। लक्ष्मी जी के चित्र के सामने एक चौकी रखकर उस पर मौली बांधनी चाहिए। 
इस पर गणेश जी की व लक्ष्मी जी की मिट्टी या चांदी की प्रतिमा स्थापित करनी चाहिए तथा उन्हें तिलक करना चाहिए। फिर दीपक जलना चाहिए। उसके बाद जल, मौली, चावल, फल, गुड़, अबीर, गुलाल, धूप आदि से विधिवत पूजन करना चाहिए। बाद में लक्ष्मी माता की आरती गायें।

पूजा पहले पुरुष करें, बाद में स्त्रियां। पूजन करने के बाद एक-एक दीपक घर के कोनों में जलाकर रखें। एक छोटा तथा एक चौमुखा दीपक रखकर लक्ष्मीजी का पूजन करें।

इस पूजन के पश्चात तिज़ोरी में गणेश जी तथा लक्ष्मी जी की मूर्ति रखकर विधिवत पूजा करें। अपने व्यापार के स्थान पर बहीखातों की पूजा करें। इसके बाद जितनी श्रद्धा हो घर की बहू-बेटियों को रुपये दें।

रात को बारह बजे दीपावली पूजन के बाद चूने या गेरू में रूई भिगोकर चक्की, चूल्हा, सिल-बट्टा तथा सूप पर तिलक करना चाहिए।

रात्रि की ब्रह्मबेला अर्थात प्रात:काल चार बजे उठकर स्त्रियां पुराने सूप में कूड़ा रखकर उसे दूर फेंकने के लिए ले जाती हैं तथा सूप पीटकर दरिद्रता भगाती हैं।

सूप पीटने का तात्पर्य है- ‘आज से लक्ष्मीजी का वास हो गया। दुख दरिद्रता का सर्वनाश हो।’ फिर घर आकर स्त्रियां कहती हैं- इस घर से दरिद्र चला गया है। हे लक्ष्मी जी! आप निर्भय होकर यहाँ निवास करिए।

अगले पेज पर जाइये 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.