Bhagwan Hamari Wish/Iccha Puri Kyo Nahi Karte

Bhagwan Hamari Wish/Iccha Puri Kyo Nahi Karte 

भगवान हमारी इच्छा पूरी क्यों नही करते?

 

भगवान के सभी भक्तों को मेरा राम राम!!

हम सभी के मन में एक प्रश्न होता है की भगवान हमारी बात क्यों नही सुनते ?(Bhagwan hamari baat kyo nahi sunte) , भगवान हमारी बात क्यों नही मानते (Bhagwan hamari baate kyo nahi mante)?

 

सबसे पहले ये याद रखना भगवान हमारे कोई गुलाम नहीं है और नौकर नहीं है जो हम चाहे उसे भगवान पूरा कर दें। ये बात उनके लिए है जो भगवान को सिर्फ एक चीज मानते हैं।  दूसरी बात भक्तों के लिए है — जिसे भगवान पर विश्वास है वो भगवान से शिकायत नही करता।

 

हम संसार में देखते हैं की सभी किसी ने किसी कारण से दुखी हैं। और जो चीज हम चाहते हैं वो हमें मिलती नही हैं इस कारण हम दुखी हैं। हम चाहते हैं की वो चीज हमें मिले इसलिए लिया हम मंदिर जाते हैं, व्रत करते हैं, पूजा करते हैं। और आज कल ज्योतिष आचार्य , पंडित जी और गुरु के पास जाते हैं।

 

ये सब करने के बाद भी हमें हमारी पसंद की चीज नही मिलती हैं? और कभी कभी हमारे पास जो चीज होती हैं वो दूर हो जाती है, क्यों ?

 

इसके लिए मैं आपको दो छोटी सी बात बताता हूँ जिसने मेरी ज़िन्दगी बदल दी —–

 
एक छोटा बालक है। उसने अपने हाथ में चाकू ले लिया और वो चाकू से खेल रहा हैं। काफी खुश हैं। लेकिन जैसे ही उसकी माँ ने उसे देखा तो वो डर गई। और झट से चाकू छीन लिया। आप आप सोचिये बच्चा तो यही सोचेगा ना की मेरी माँ ने मुझसे खेलने की चीज ले ली। लेकिन माँ जानती हैं अगर बच्चे के हाथ में चाकू हैं तो चोट भी लग सकती हैं।

 

इसलिए आप ये सोचिये की भगवान ने कोई चीज आपसे दूर की हैं तो वो चीज चाकू की तरह हैं और भगवान आपकी माँ की तरह हैं। भगवान अपने भक्त की हमेशा रक्षा करता हैं।
दूसरी बात  —

 

मान लो आप भगवान से एक गाडी की कामना करते हैं। उसके लिए आपने काफी मेहनत की और आप को गाडी नही मिली। तो आप भगवान को कोसने लग जाते हो की मैंने आपके व्रत किये आपने मेरी मन्नत पूरी नहीं की।

 

आप थोड़ा सोचिये क्या पता उसी गाडी में तुम्हारा एक्सीडेंट होना हो। और भगवान तो ये जानते हैं। इसलिए भगवान नहीं चाहते की आपको गाडी मिले। क्योकि भगवान अपने भक्त का कभी भी बुरा नही चाहते है।

 

इसलिए आपकी इच्छा के अनुरूप कोई काम हो जाये तो हरि कृपा और ना हो तो प्रभु की इच्छा। अगर ये भाव हमेशा आपके मन में रहेगा तो आप दुखी नहीं रहोगे और भगवान से कोई शिकायत भी नहीं करोगे। और अगर आप हमेशा के लिए खुश रहना चाहते हो तो अपनी इच्छा को परमात्मा की इच्छा में मिला दो। भगवान से कहो की जो तेरी ख़ुशी वो मेरी ख़ुशी।।

 

Read : दुःख दूर करने के उपाय 

Read : सुखी होने के उपाय

 

 

10 thoughts on “Bhagwan Hamari Wish/Iccha Puri Kyo Nahi Karte

  1. Agar bghwaan hamara bura nhi chahte toh kyu aaj choti bachiyo k saath rape ho jaata hai kyu isme bechaari us ladki ka kya kasoor tha or agr hum kahein ki bghwaan humei vo cheej isliye nhi de sakte kyunki shyad vo cheej humare liye khtrnaak ho pr jis ko kaha hi bghwaan gya hai jo hr cheej insaan ko dhrti pe laana use lekr jaana uske haath mei hai toh kyu vo cheej humare liye achi nhi kr sakta jo cheej humei chahiye b or vo cheej hamare liye shi b na ho bghwaan us cheej ko humare liye shi toh kr sakta hai na saari baaton mei ek baat hai maine aaj tk bgjwaan ko itna maana mean naastik logo ko b bghwaan ko maanne k liye kha kbhi kisi ko khaali haath nhi jaane diya pr bghwaan ne meri ek nhi suni kyu mai itna bura toh nhi jisne kbhi kisi ka bura krne ka socha toh door kisi k saath bura hota dekh b nhi sakta tha bghwaan nhi hai yeh sab vehm hai vehm

    • जय श्री कृष्ण !!

      आपने कहा की आजकल जो छोटी बच्चियों के साथ हो रहा है, वो गलत है, उसमें उस लड़की का कोई कसूर नहीं था। मैं आपकी बात से सहमत हूँ उस बच्ची का कोई कुसूर नहीं था.. लेकिन इसमें भगवान का भी कोई कसूर नहीं है, क्या भगवान ने ये सब किया? या उस अधर्मी लोगों ने किया जो भगवान को मानते ही नहीं, वास्तव में मानते तो शायद ऐसा करते ही नहीं, कभी भगवान का नाम लिया होता दिल से तो कभी ऐसा नहीं करते।
      जबकि मैंने तो ये पढ़ा है जब मीरा जी को विष पिलाया गया वो अमृत बन गया, जब द्रौपदी जी का चीर हरण करने के लिए वो दुष्ट लगे थे तो भगवान ने लाज बचाई है। लेकिन उनका भगवान से प्रेम अद्भुत था।
      अब मैं इतना कह सकता हूँ आपमें अच्छे बुरे की समझ आई है, वो यही देखकर आई न समाज में जो गलत हो रहा है वो अधर्म है। दूसरा आप जानते हैं कानून की गलती नहीं है क्या? सरेआम गोली क्यों नहीं मार दी जाती ऐसी लोगो को?
      हर गलत काम के लिए भगवान को दोष देना ठीक नहीं है। मेरा दिल कहता है आप ना तो कोई गलत काम करोगे ना कोई गलत काम होता देखोगे।
      और रही बात भगवान है या नहीं है, तो आप इतना चिंता ना करो, मानो या मानो। ये आपके ऊपर है लेकिन आपने इतने दिन तक माना कि भगवान है तो ये भी तो उन्ही के कारण और अब आप मना कर रहे हो तो ये भी उन्ही के कारण है।
      ये सृष्टि का चक्र कौन चला रहा है? ये हवा, पानी, जन्म, मौत ये सब कौन नियंत्रित कर रहा है। वास्तव में भगवान से प्रेम है तो कुछ भी मत मांगो। प्रल्हाद जी का नाम सुना होगा आपने। भगवान ने कहा कि बेटा मांग, क्या चाहिए?
      जानते हो, प्रल्हाद जी ने कहा कि भगवान मेरे अंदर कोई मांगने की इच्छा ही ना हो, मेरी सब कामना मर जाये। धन्य है ऐसे भक्त जो कभी शिकायत नहीं करते। लेकिन हम शिकायती है, बात बात में शिकायत करते हैं। इसलिए शायद हमें उनकी कृपा नहीं दिखती है। सुदामाजी कितने गरीब थे, कभी शिकायत नहीं की। हमारी wish पूरी हुई नहीं कि शिकायत शुरू। भगवान हमारे गुलाम नहीं है याद रखना। लेकिन अगर हम भगवान से प्यार करते हैं तो वो गुलाम बनने के लिए भी राजी हो जाते हैं। भगवान कभी वहम नहीं है, वो बहुत कृपालु है भाई, बहुत दयालु है। नास्तिक तो वो तुम्हें बनने नहीं देगा।

  2. Jai bhole nath ki Mai to AAP sab ki baat sunkar unse kabhi kuchh nahi magungi kyu k Mai bhi unse ek chiz hamesha mangti hu unse baat Karti hu par shayad hamare liye jo achha h wohi tae karenge.aur wohi hamare liye achha hoga.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.