क्या राम भगवान था?

क्या राम भगवान था?

Kya Ram Bhagwan tha ? 

 

हाँ, राम भगवान था। जी हाँ श्री राम भगवान थे। श्री राम भगवान हैं। और श्री राम भगवान ही रहेंगे।

सबसे पहले तो मैं आप सभी से माफ़ी मांगता हूँ की मैंने क्या राम भगवान था ये शब्द प्रयोग किया। भगवान राम का नाम तो सदैव ही आदर से लेना चाहिए। श्री राम भगवान थे? लेकिन किसी कारण से मुझे ये लिखना पड़ा की क्या राम भगवान था

 

मैं एक दिन भगवान राम जी के बारे में नेट पर सर्च कर रहा था। जिसमे लिखा था क्या राम भगवान था? मुझे ऐसे ऐसे आर्टिकल दिखाई दिए जिसमे भगवान राम के बारे में अनाप-शनाप लिखा हुआ था। पढ़कर काफी दुःख हुआ। तो मैंने केवल उन लोगों की मानसिकता दूर करने के लिए आर्टिकल डाला। उसमे लिखा था की राम भगवान नही थे, एक राजा थे। शुक्र है उन्होंने राजा राम तो माना। तभी तो कहते हैं जय जय राम, राजा राम , सीता राम राम राम।
मैंने पहले भी एक आर्टिकल डाल चूका हूँ जिसमे भारद्वाज मुनि, और माता सती को ये भ्र्म हो गया था की राम कोई भगवान नही हैं केवल और केवल एक राजा हैं। लेकिन इन दोनों का भ्र्म दूर हुआ।

Read : भारद्वाज मुनि का याज्ञवल्क से राम के बारे में जानना 

 

दोस्तों भगवान को जानने के लिए आपको एक गुरु की जरुरत होगी। हो सकता है आप टीवी से, या फिर पुस्तक पढ़कर अपनी बुद्धि से अंदाज लगाना चाहे की राम भगवान थे या नहीं थे?

Read : श्री राम के भगवान होने के सबूत

लेकिन कहीं भी चुक हुई तो आप आप गलत सोच जाओगे। जब तक आप किसी सद्गुरु की, संत- महात्मा की, या किसी श्रेठ वक्त की शरण में नही जाओगे तब तक आप भगवान राम के बारे में जान ही नहीं पाओगे।
अरे भगवान राम  का नाम तो इतना मधुर है। केवल एक बार लेने से ही कई जन्म के पाप दूर हो जाते हैं। और एक बात इन श्री राम का खुद भोले नाथ, भगवान शिव शंकर ध्यान करते हैं। आप जानते हो एक बार माता सती को जब भ्र्म हुआ की राम भगवान हैं या नहीं है? तो माता सती ने भगवान राम की परीक्षा ली। और उस परीक्षा में वो फेल हो गई।

Read : माता सती द्वारा राम की परीक्षा लेना

भोले नाथ को सब पता चल गया। और उसके आगे की कथा ये है की माता सती को अगला जन्म पार्वती के रूप में लेना पड़ा। कमाल की बात है जिनके नाम की महिमा वेद और पुराण गाता है। हम उसकी सत्ता को स्वीकार नहीं कर रहे हैं।
भैया, रामजी ने तो केवल ही जीव का उद्धार किया होगा लेकिन उनका नाम तो आज भी अनेक लोगों का उद्धार कर रहा है। आप किसी संत और महात्मा से मिलना। और उनसे राम नाम की महिमा पूछना। आप राम नाम की महिमा जानकार हैरान रह जाओगे। 

Read : राम नाम की महिमा

भगवान श्री राम को केवल वो ही जान सकते हैं जिन्हें वो जनाना चाहें। राम के बारे में गलती से भी कोई शंका अपने मन में मत लाना। क्योंकि राम एक मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान हैं। जिन्होंने कभी भी मर्यादा को नही तोडा। कुछ लोग कहते हैं की रामजी ने तो सीता माता का त्याग कर दिया। अरे मूर्खों तुम्हे तो त्याग नही दिखा जब एक बार पिता के कहने से वो वन चले गए। और दशरथ जी तो कह भी नही पाए थे ककई ने कहा। रामजी ने एक पल नही लगाया। आज के समय को गद्दी को छोड़ सकता है क्या।
दूसरा आप सीता जी के वन जाने की कथा भी पढ़िए। क्या परिस्तिथि बनी की सीता जी राम से अलग हुई।

Read : श्री राम ने सीता माता का त्याग क्यों किया

अंत में एक बात कहना चाहूंगा की मंदिरों में पूजा सिर्फ भगवान और भक्तों की होती है। असुरों की नहीं। और श्री राम की सीता माता के साथ, हनुमान और लक्ष्मण, भारत और शत्रुघ्न के साथ राम दरबार की पूजा होती है।

 

धन्य हैं भगवान राम जिन्होंने जीने की कला सिखाई। और आप नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं की उन्होंने भगवान को राम रूप में अवतार लेने की जरुरत क्यों पड़ी?

Read : भगवान राम के अवतार लेने के कारण 

Read : सम्पूर्ण रामायण कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.