Krishna Ukhal bandhan leela in hindi

Krishna Ukhal bandhan leela in hindi

(कृष्ण ऊखल बंधन लीला)

कार्तिक मास और शुभ दीपावली का दिन है। माँ यशोदा सुबह सोकर उठी है। और मन में विचार करती है की अपने हाथो से माखन(दधि-मंथन) निकालू। क्योकि घर में इतने सेवक और सेविकाएं है की माँ को काम नही करने देते थे। माँ माखन निकल रही है और मन, करम, वचन तीनो से परमात्मा को याद कर रही है। जब कोई भगवान को मन, करम और वचन से याद करते है तो परमात्मा सोते नहीं है जाग जाते है।

“एकदा गृहदासीषु यशोदा नंदगेहिनी .
कर्मान्तरनियुक्तासु निर्ममंथ स्वयं दधि ..

थोड़ा ध्यान से- अगर हम मन से भगवान को याद करते है तो करम और वचन से और कहीं होते है। यदि करम प्रभु के लिए हो रहा है तो मन और वाणी ओर कहीं होते है। और यदि वाणी से भगवान को याद कर रहे होते है तो मन और करम किसी दूसरे काम में लगा होता है। यदि तीनो से भगवान को याद करो तो वो जाग जाते है।

बालकृष्ण भी सोये हुए है। माँ का मन भगवान में है। कर्म भी कृष्ण के लिए हो रहा है और वाणी भी उसी के गुण गए रही है। तो बालकृष्ण जाग गए है। पलंग से उतर कर माँ के पास गए और बोले की भूख लगी है। माँ दूध पिलाने लगी। लेकिन रसोईघर में दूध उबाल खा कर नीचे गिर रहा था। माँ के सोचा की मेरे लाला की आयु कम ना हो जाये। क्योंकि ऐसी मान्यता है अगर घर में गोदी का बालक हो और गाय का दूध अग्नि में जले तो बच्चे की आयु काम होती है।

माँ ने कृष्ण को गोदी से उतारा और दूध के पात्र को उतरने के लिए गई। उधर दूध उफन रहा था यहाँ पूत उफनने लगा।

भगवान बोले- माँ को पूत से ज्यादा दूध प्यारो है। मोको छोड़ के चली गई। भगवान मन में बोले की मुझे लीला में क्रोध है। अगर सच में क्रोध आये तो ब्रह्माण्ड नष्ट हो जाये। चलो ब्रह्माण्ड नही तो इस भांड को ही नष्ट कर दूँ।

भगवान ने पत्थर उठा कर माखन की मटकी पर दे मारा और मटकी फोड़ दी। जब माँ ने आकर देखा की लाला ने मटकी फोड़ दी है पहले तो हंसने लगी। लेकिन फिर सोचा की लाला ज्यादा बिगड़ गयो है इसे मारूंगी। भगवान आज डंडी लेके भगवान को मारने के लिए दौड़ी। आज कृष्ण आगे-आगे भाग रहे है और माँ पीछे पीछे दौड़ लगा रही है।

बड़े बड़े योगी योग में बैठकर जिन्हे पकड़ नही पाते । आज माँ उसे पकड़ने के लिए दौड़ी है। ब्रजरानी यशोदा कहती है लाला आज में तोकू सीधो कर दूंगी। लाला बोले की मैया पहले पकड़ तो ले। क्योकि मोटी तगड़ी यशोदा है और हलके फुल्के कान्हा है।

Read: Story of Radha Rani Chamatkar(राधा रानी का चमत्कार )

 

सब गोपियाँ आ गई और बोली अरी यशोदा आज सुबह से लाला के पीछे दौड़ कैसे लगा रही है। मैया बोली की आज लाला ने घर में माखन की मटकी फोड़ दी है।

गोपियाँ कहती है ये कौनसा नया काम किया है? हमारे घर में तो रोज ही फोड़ कर आवे है।

जब हमारे घर में फोड़ के आवे है तब तुम कुछ नही कहती आज तुम्हारे घर में फोड़ दी तो तुम मारने चली हो।

यशोदा कहती है गोपियों तुमने ही मेरे लाला की आदत खराब कर रखी है। आज मैं लाला को सीधा कर दूंगी।

भगवान दूर खड़े मुस्करा रहे है। भगवान के परम मित्र मनसुखा आ गए। माँ कहती है मनसुखा तू आज लाला को पकड़ के ले आ। मैं तुझे माखन खाने को दूंगी। मनसुखा जब कन्हैया को पकड़ने भागे तो कन्हैया बोले- क्यों रे ब्राह्मण तू आज माखन के लोभ में मैया से मार लगवायगो। मैं तुझे रोज चोरी कर कर के माखन खाने के लिए देता हु मैया तो तुझे सिर्फ आज माखन खाने को देगी। अगर तूने आज मुझे पकड़ा और मैया से मार लगवाई तो अपनी पार्टी से बायकॉट कर दुंगो।

मनसुखा बोले मैया का क्या है? 2 चपत तेरे गाल पर लगाएगी और मेरा भला हो जायेगा। हमे माखन खाने के लिए मिल जायेगा।

भगवान बोले अच्छा मेरी होए पिटाई और तेरी होय चराई। वाह मनसुखा! वाह

भगवान सुन्दर लीला कर रहे है। मनसुखा के लोभ में मनसुखा ने कृष्ण को पकड़ लिया। और जोर से आवाज लगाई। माँ दौड़ कर आई। जैसे ही माँ कान्हा के पास पहुंची मनसुखा ने छोड़ दिया। मनसुखा बोले मैया मैंने इतनी देर पकड़ कर रखो पर तू नही आई तो कन्हैया हाथ छुड़वा कर भाग गयो।

मैया एक तरीका बताऊ पकड़ने का। तू इसे भक्तन की सौगंध खवा।

मैया बोली या चोर को कौन भक्त बनेगो। फिर भी माँ कन्हैया को सौगंध ख्वाती है। कन्हैया तुझे तेरे भक्तन की सौगंध है जो मेरी गोद में ना आये।

भगवान बोले ‘अहम भक्ता पराधीन’! मैं तो भक्त के आधीन हूँ। और भाग कर मैया के पास चले गए। मैया से बोले की अब मैया या मार या छोड़ मैं तेरे हाथ में हूँ ।

मैया बोली लाला ना मारूंगी और ना छोडूंगी, हाँ तुझे बांधूंगी जरूर। मैया रेशम के डोरे से ऊखल से कृष्णा को पेट से बाँध रही है।

भगवान बोले मैया मेरे हाथ को बांधे तो बंध जाऊ। पैर से बांधे बंद जाऊ। पेट से बाँध रही है। और मेरे पेट में तो पूरा ब्रह्माण्ड समाया है। बार बार में बांध रही है लेकिन डोरी 2 अंगुल छोटी पड़ जाती है। एक अंगुल प्रेम है दूसरा है कृपा। भगवान कहते है जब व्यक्ति प्रेम में आ जाता है तो मैं उस पर कृपा अपने आप कर देता हूँ।

((नोट :- यह कथा आप Youtube पर भी सुन सकते हैं– जिसका लिंक नीचे है ))

Damodar name of Krishna(कृष्ण का दामोदर नाम पड़ना ) 

आज मैया जब थक गई और प्रेम में आ गई। तो प्रभु ने माँ पर कृपा कर दी। अब मैया ने कान्हा को बाँध दिया है और भगवान का नाम पड़ा है दामोदर।
बोलिए दामोदर भगवान की जय!!

संस्कृत में डोरी को दाम कहते है। और उदर कहते है पेट को। भगवान को रस्सी से पेट से बाँधा तो नाम पड़ा दामोदर।
इस प्रकार से भगवान को बाँध कर माँ अंदर चली गई। भगवान बोले की मैं खुद तो बंध गया हूँ लेकिन मेरे अंदर इतनी शक्ति है की दूसरों के बंधन खोल सकता हूँ।

अगले पेज पर जाइये 

2 thoughts on “Krishna Ukhal bandhan leela in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.