Krishna Study and Guru Dakshina in hindi

 

Shankhasur Vadh and Panchjanya shankh :  शंखासुर का वध और पाञ्चचजन्य शंख 

मनुष्य वेषधारी समुद्र ने कहा—‘देवाधिदेव श्रीकृष्ण! मैंने उस बालक को नहीं लिया है। मेरे जल में पंचजन नाम का एक बड़ा भारी दैत्य जाति का असुर शंख के रूप में रहता है। अवश्य ही उसी ने वह बालक चुरा लिया होगा’।

समुद्र की बात सुनकर भगवान तुरंत ही जल में जा घुसे और शंखासुर को मार डाला। परन्तु वह बालक उसके पेट में नहीं मिला।

तब उसके शरीर का शंख लेकर भगवान रथ पर चले आये। वहाँ से बलरामजी के साथ श्रीकृष्ण ने यमराज की प्रिय पुरी संयमी में जाकर अपना शंख बजाया।

 

Krishna Guru Putra Jivit Lautana : कृष्ण का गुरु पुत्र का जीवित लौटाना

शंख का शब्द सुनकर सारी प्रजा का शासन करने वाले यमराज ने उनका स्वागत किया और भक्तिभाव से भरकर विधिपूर्वक उनकी बहुत बड़ी पूजा की। उन्होंने नम्रता से झुककर समस्त प्राणियों के ह्रदय में विराजमान सच्चिदानंद-स्वरुप भगवान श्रीकृष्ण से कहा—‘लीला से ही मनुष्य बने हुए सर्व्यापक परमेश्वर! मैं आप दोनों की क्या सेवा करूँ ?’।

 

श्रीभगवान ने कहा—‘यमराज! यहाँ अपने कर्मबन्धन के अनुसार मेरा गुरुपुत्र लाया गया है। तुम मेरी आज्ञा स्वीकार करो और उसके कर्म पर ध्यान न देकर उसे मेरे पास ले आओ ।

 

यमराज ‘जो आज्ञा’ कहकर भगवान का आदेश स्वीकार किया और उनका गुरुपुत्र ला दिया। तब यदुवंशशिरोमणि भगवान श्रीकृष्ण और बलरामजी उस बालक को लेकर उज्जैन लौट आये और उसे अपने गुरुदेव को सौंपकर कहा कि ‘आप और जो कुछ चाहें, माँग लें’ ।

 

गुरूजी ने कहा—‘बेटा! तुम दोनों ने भलीभाँति गुरु दक्षिणा दी। अब और क्या चाहिये ? जो तुम्हारे जैसे पुरुषोत्तमों का गुरु है, उसका कौन-सा मनोरथ अपूर्ण रह सकता है ? वीरों! अब तुम दोनों अपने घर जाओ। तुम्हें लोकों को पवित्र करने वाली कीर्ति प्राप्त हो। तुम्हारी पढ़ी हुई विद्या इस लोक और परलोक में सदा नवीन बनी रहे, कभी विस्मृत न हो’ ।

 

फिर गुरूजी से आज्ञा लेकर वायु के समान वेग और मेघ के समान शब्द वाले रथ पर सवार होकर दोनों भाई मथुरा लौट आये । मथुरा की प्रजा बहुत दिनों तक श्रीकृष्ण और बलराम को न देखने से अत्यन्त दुःखी हो रही थी। जब लोगों ने कृष्ण-बलराम को देखा तो मानो खोया हुआ धन मिल गया हो ।

Read : कृष्ण सुदामा मिलन

Read : राम हनुमान मिलन 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.