वराह अवतार की कथा/कहानी

वराह अवतार की कथा/कहानी

Varaha Avatar ki katha/kahani

 

वराह अवतार(Varaha Avatar) भगवान श्री विष्णु जी के अवतार है। इनके अवतार की अति सुंदर कथा है। वैसे तो भगवान का अवतार अनेक कारणों से होता है। लेकिन असुरो का वध और धर्म की स्थापना करना भगवान का प्रमुख काम है। यहाँ भगवान के अवतार की 2 कथाओ का वर्णन है जो इस प्रकार है-

 

Varaha Avatar Story 1 in hindi : वराह अवतार की कथा 1

एक बार 2 राक्षस थे। जिनके नाम हिरण्याक्ष(Hiranyaksha) तथा हिरण्यकश्यपु(Hiranya­kashyap) थे। इन दोनों ने ब्रह्मा(Brahma) की तपस्या की।उनके तप से ब्रह्मा जी प्रसन्न हुए। उन्होंने प्रकट होकर कहा, ‘तुम्हारे तप से मैं प्रसन्न हूं। वर मांगो, क्या चाहते हो?

हिरण्याक्ष और हिरण्यकशिपु ने उत्तर दिया,’प्रभो, हमें ऐसा वर दीजिए, जिससे न तो कोई युद्ध में हमें पराजित कर सके और मानव जाती का कोई ना मार सके।’ ब्रह्माजी ‘तथास्तु’ कहकर अपने लोक में चले गए।

इन्होने सोचा की हम अमर हो गए है मन में जो आएगा वो करेंगे। वह तीनों लोकों में अपने को सर्वश्रेष्ठ मानने लगा। यहाँ तक की भगवान विष्णु को भी अपने से छोटा मानने लगे। हिरण्याक्ष ने गर्वित होकर तीनों लोकों को जीतने का विचार किया। वह हाथ में गदा लेकर इन्द्रलोक में जा पहुंचा। देवताओं को जब उसके पहुंचने की ख़बर मिली, तो वे भयभीत होकर इन्द्रलोक से भाग गए। इन्द्रलोक पर हिरण्याक्ष ने कब्ज़ा कर लिया। जब इन्द्रलोक में युद्ध करने के लिए कोई नहीं मिला, तो हिरण्याक्ष वरुण की राजधानी विभावरी नगरी में जा पहुंचा। उसने वरुण के समक्ष उपस्थित होकर कहा,’वरुण देव, आपने दैत्यों को पराजित करके राजसूय यज्ञ किया था।

आज आपको मुझे पराजित करना पड़ेगा। कमर कस कर तैयार हो जाइए, मेरी युद्ध की प्यास को मिटाइये।’

हिरण्याक्ष की बात सुनकर वरुण के मन में रोष तो उत्पन्न हुआ, किंतु उन्होंने भीतर ही भीतर उसे दबा दिया। वे बड़े शांत भाव से बोले,’तुम महान योद्धा और शूरवीर हो।तुमसे युद्ध करने के लिए मेरे पास शौर्य कहां? तीनों लोकों में भगवान विष्णु को छोड़कर कोई भी ऐसा नहीं है, जो तुमसे युद्ध कर सके। अतः उन्हीं के पास जाओ। वे ही तुम्हारी युद्ध पिपासा शांत करेंगे।’

वरुण देव की बात सुनकर उस राक्षस ने देवर्षि नारद के पास जाकर नारायण का पता पूछा। देवर्षि नारद ने उसे बताया कि नारायण इस समय वाराह का रूप धारण कर पृथ्वी को रसातल से निकालने के लिये गये हैं। इस पर हिरण्याक्ष रसातल में पहुँच गया। वहाँ उसने देखा भगवान वाराह अपने दाढ़ पर रख कर पृथ्वी को लाते हुये देखा।

उस महाबली दैत्य ने वाराह भगवान से कहा, “अरे जंगली पशु! तू जल में कहाँ से आ गया है? मूर्ख पशु! तू इस पृथ्वी को कहाँ लिये जा रहा है? इसे तो ब्रह्मा जी ने हमें दे दिया है। रे अधम! तू मेरे रहते इस पृथ्वी को रसातल से नहीं ले जा सकता। तू दैत्य और दानवों का शत्रु है इसलिये आज मैं तेरा वध कर डालूँगा।” वह कभी उन्हें निर्लज्ज कहता, कभी कायर कहता और कभी मायावी कहता, पर भगवान विष्णु केवल मुस्कराकर रह जाते।

उन्होंने रसातल से बाहर निकलकर धरती को समुद्र के ऊपर स्थापित कर दिया। हिरण्याक्ष उनके पीछे लगा हुआ था। अपने वचन-बाणों से उनके हृदय को बेध रहा था। भगवान विष्णु ने धरती को पानी से भर ले आये और तब हिरण्याक्ष की ओर ध्यान दिया।

लेकिन हिरण्याक्ष अब भी भगवान को अपशब्द बोले जा रहा था। भगवान को अब क्रोध आ गया। भगवान बोले की बेकार की बात करनी आती है या युद्ध करना भी आता है। मैं तुम्हारे सामने खड़ा हूं। तुम क्यों नहीं मुझ पर आक्रमण करते? बढ़ो आगे, मुझ पर आक्रमण करो।

हिरण्याक्ष की रगों में बिजली दौड़ गई। वह हाथ में गदा लेकर भगवान विष्णु पर टूट पड़ा। भगवान के हाथों में कोई अस्त्र शस्त्र नहीं था। उन्होंने दूसरे ही क्षण हिरण्याक्ष के हाथ से गदा छीनकर दूर फेंक दी। हिरण्याक्ष को इतना क्रोध आया कि वह हाथ में त्रिशूल लेकर भगवान विष्णु की ओर झपटा। भगवान वाराह और हिरण्याक्ष मे मध्य भयंकर युद्ध होने लगा।

भगवान विष्णु ने शीघ्र ही सुदर्शन का आह्वान किया, चक्र उनके हाथों में आ गया। उन्होंने अपने चक्र से हिरण्याक्ष के त्रिशूल के टुकड़े-टुकड़े कर दिये।हिरण्याक्ष अपनी माया का प्रयोग करने लगा। वह कभी प्रकट होता, तो कभी छिप जाता, कभी अट्टहास करता, तो कभी डरावने शब्दों में रोने लगता, कभी रक्त की वर्षा करता, तो कभी हड्डियों की वर्षा करता। भगवान विष्णु उसके सभी माया कृत्यों को नष्ट करते जा रहे थे।

जब भगवान विष्णु हिरण्याक्ष को बहुत नचा चुके, तो उन्होंने उसकी कनपटी पर कस कर एक चपत जमाई। उस चपत से उसकी आंखें निकल आईं।
वह धरती पर गिरकर निश्चेष्ट हो गया और अन्त में हिरण्याक्ष का भगवान वाराह के हाथों वध हो गया।

भगवान वाराह के विजय प्राप्त करते ही ब्रह्मा जी सहित समस्त देवतागण आकाश से पुष्प वर्षा कर उनकी स्तुति करने लगे।

 

Varaha Avatar Story 2 in hindi : वराह अवतार की कथा 2

श्रीमद् भगवत पुराण(shrimad bhagwat puran) में यह कथा आई है। ब्रह्मा नें मनु(manu) और सतरूपा(satrupa) का निर्माण किया।

एक दिन स्वायम्भु मनु ने बड़ी नम्रता से हाथ जोड़कर अपने पिता ब्रम्हा जी से कहा– पिताजी! एकमात्र आप ही समस्त जीवों के जन्मदाता हैं। आप ही जीविका प्रदान करने वाले भी हैं। हम आपको नमस्कार करते हैं। हम ऐसा कौन – सा कर्म करें, जिससे आपकी सेवा बन सके?
हमें सेवा करने की आज्ञा दीजिये।

मनु की बात सुन कर ब्रम्हाजी ने कहा– पुत्र! तुम्हारा कल्याण हो। मैं तुमसे बहुत प्रसन्न हूँ। क्योकि तुमने मुझसे आज्ञा माँगी है और आत्मसमर्पण किया है। पुत्रो को अपने पिता की इसी रूप में पूजा करनी चाहिये। उन्हें अपने पिता की आज्ञा आदरपूर्वक पालन करना चाहिये। तुम धर्मपूर्वक पृथ्वी का पालन करो। और सृष्टि को आगे बढ़ाओ। यज्ञों द्वारा श्री हरि की आराधना करो। प्रजापालन से मेरी बड़ी सेवा होगी।

मनु ने कहा– पिताजी! मैं आपकी आज्ञा का पालन जरूर करूँगा। लेकिन इसके लिए तो पृथ्वी की जरुरत होगी। और पृथ्वी को वो दुष्ट हिरण्याक्ष खींचकर रसातल में ले गया है। मैं पृथ्वी का पालन कैसे करूँ?

पृथ्वी का हाल सुनकर ब्रम्हाजी बहुत चिन्तित हुए। वह पृथ्वी के उद्धार की बात सोच ही रहे थे कि उनकी नाक से अचानक अंगूठे के आकार का एक वराह – शिशु निकला। देखते ही दखते वह पर्वताकार होकर गरजने लगा। ब्रम्हाजी को भगवान की माया समझते देर न लगी। भगवान की घुरघुराहट सुनकर वे उनकी स्तुति करने लगे।

ब्रम्हाजी की स्तुति से वराह भगवान प्रसन्न हुए। वे जगत – कल्याण के लिये जल में घुस गये। थोड़ी देर बाद वे जल में डूबी हुई पृथ्वी को अपनी दाढ़ो पर लेकर रसातल से ऊपर आये। उनके मार्ग में विघ्न डालने के लिये महापराक्रमी हिरण्याक्ष ने जल के भीतर ही उनपर गदा से आक्रमण किया। इससे उनका क्रोध चक्र के समान तीक्ष्ण हो गया। उन्होंने उसे लीला से ही इस प्रकार मार डाला, जैसे सिहं हाथी को मार डालता है।

जल से बाहर निकले हुए भगवान को देख कर ब्रम्हाजी आदि देवता हाथ जोड़कर उनकी स्तुति करने लगे। इससे प्रसन्न होकर वराह भगवान ने अपने खुरों से जल को रोककर उस पर पृथ्वी को स्थापित कर दिया।

पृथ्वी का उद्धार करने वाले वराह भगवान को हम सब नमस्कार करते हैं।

 

पढ़ें : सम्पूर्ण श्रीमद्भगवद्गीता
पढ़ें : प्रल्हाद, नृसिंह और हिरण्यकशिपु की कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.