Ram Rajya in hindi

Ram Rajya in hindi राम राज्य   हम सभी जानते तो हैं की भगवान श्री राम ने अयोध्या पर राज्य किया था लेकिन वो राज्य कैसा था? 14 वर्ष वनवास काटकर माता सीता और लक्ष्मण भाई के साथ अयोध्या लौटे थे। एक बार जरा उसका दर्शन कीजिये। जिसका वर्णन श्री तुलसीदास जी ने किया है। कथा […]

Continue reading


Shri Ram Stuti in hindi

Shri Ram Stuti in hindi श्री राम जी की स्तुति  रामचरित मानस के उत्तरकाण्ड में नारद जी ने भगवान श्री राम जी की बड़ी सुंदर स्तुति की है। जो इस प्रकार है- Maam Valoka Pankaj lochan in hindi  मामवलोकय पंकज लोचन। कृपा बिलोकनि सोच बिमोचन॥ नील तामरस स्याम काम अरि। हृदय कंज मकरंद मधुप हरि॥1॥ जातुधान बरूथ […]

Continue reading


Ramayan Katha(Stories) in hindi

Ramayan Katha(Stories) in hindi रामायण कथा(कहानी) सभी भक्त जानते हैं की रामायण वाल्मीकि जी द्वारा लिखी गई है उसके बाद गोस्वामी तुलसीदास जी ने भगवान की कृपा से रामचरितमानस की रचना की है। जिसमे सात(7 ) काण्ड हैं। भगवान की कथा और लीला तभी पढ़ने-सुनने को मिलती है जब भगवान की कृपा हो। आप भगवान श्री […]

Continue reading


Shri Ramayan ji ki Aarti

Ramayan in hindi

Shri Ramayan ji ki Aarti  श्री रामायण जी की आरती  श्री तुलसीदास कृत राम चरितमानस रामायण आरती  श्री रामायण जी की आरती आरती श्रीरामायणजी की। कीरति कलित ललित सिय पी की।।   गावत ब्रह्मादिक मुनि नारद। बालमीक बिग्यान बिसारद।। सुक सनकादि सेष अरु सारद। बरनि पवनसुत की‍रति नीकी।। आरती श्री रामायण जी की ..   […]

Continue reading


Ramayan : Ram Rajyabhishek story(katha) in hindi

Ramayan in hindi

Ramayan : Ram Rajyabhishek story(katha) in hindi रामायण : राम राज्याभिषेक कथा(कहानी) उत्तरकाण्ड में तुलसीदास जी ने भगवान राम को नमस्कार किया है  और भगवान के चरणों की वंदना की है और भगवान शिव को भी प्रणाम किया है। रामजी के लौटने की अवधि का एक ही दिन बाकी रह गया, अतएव नगर के लोग […]

Continue reading


Ramayan : Ram Ayodhya jana after Vanvas

Ramayan : Ram Ayodhya jana after Vanvas  रामायण : राम का वनवास बाद अयोध्या लौटना  आपने पढ़ा की भगवान ने विभीषण को लंका का राजा बनाया है और सीता माँ ने अग्नि परीक्षा दी है। श्री जानकीजी सहित प्रभु श्री रामचंद्रजी की अपरिमित और अपार शोभा देखकर रीछ-वानर हर्षित हो गए और सुख के सार […]

Continue reading