Yudhisthira Curse(Shrap) to Kunti or Gandhari curse(shrap) to Krishna story in hindi

Yudhisthira Curse(Shrap) to Kunti or Gandhari curse(shrap) to Krishna story in hindi युधिष्ठिर का कुंती को श्राप और गांधारी का कृष्ण को श्राप की कहानी/कथा   दुर्योधन को छोड़कर सभी कौरव मारे जा चुके थे। भीष्म, द्रोण, कर्ण आदि महारथी वीरगति को प्राप्त हो गए थे। तब दुर्योधन पहले भीष्म पितामह के पास जाता है जो बाणों […]

Continue reading


Mahabharata : Shalya or Shakuni Vadh(death) Story/katha in hindi

Mahabharata : Shalya or Shakuni Vadh(death) Story/katha in hindi महाभारत शल्य और शकुनि के वध की कहानी/कथा महाभारत युद्ध में कर्ण का वध हो चुका था। कर्ण के सारथि मद्र देश के नरेश शल्य थे। इन्होने जाकर दुर्योधन को कर्ण के वध का समाचार दिया।   Mahabharata Shalya vadh : मद्र नरेश शल्य वध इसके […]

Continue reading


Mahabharat : Karna 3 curses(shrap) Story in hindi

Mahabharat : Karna 3 curses(shrap) Story in hindi महाभारत : कर्ण को मिले 3 श्राप की कहानी/कथा महाभारत में दानवीर कर्ण का जीवन हमेशा ही दुखों से घिरा रहा है। जन्म से लेकर मृत्यु तक कर्ण के जीवन में दुःख ही दुःख रहे हैं। कर्ण को मिले श्रापों ने कर्ण को झकजोर दिया और अंत […]

Continue reading


Mahabharat Karna Vadh(Death) Story/Katha in hindi

Mahabharat Karna Vadh(Death) Story/Katha in hindi महाभारत कर्ण वध(मृत्यु) की कहानी/कथा महाभारत में कर्ण वध का दृश्य बड़ा ही मार्मिक रहा है। भीष्म पितामह सर शैया पर हैं। गुरु द्रोणाचार्य का वध हो चुका है। कर्ण को कौरव सेना का प्रधान सेनापति बनाया गया है। अगले दिन के युद्ध में दुशासन का भी वध भीम […]

Continue reading


Bhima kills/vadh dushasana mahabharata story in hindi

Bhima kills/vadh dushasana mahabharata story in hindi भीम द्वारा महाभारत युद्ध में दुशासन का वध/मृत्यु   पन्द्रहवें दिन के युद्ध में द्रोणाचार्य का वध कर दिए जाता है। द्रोणाचार्य वध के बाद कर्ण को कौरव सेना का सेनापति बनाया जाता है जिसकी कर्ण काफी समय से प्रतीक्षा कर रहा था। इस दिन के युद्ध भी […]

Continue reading


Ghatothkach Vadh/Death mahabharat story in hindi

Ghatothkach Vadh/Death Mahabharat story in hindi घटोत्कच वध/मृत्यु महाभारत की कथा/कहानी   14वें दिन का युद्ध अन्य दिनों के युद्ध से अलग था। अर्जुन ने जयद्रथ वध की प्रतिज्ञा ली थी। युद्ध के नियम तो पहले भी तोड़े गए लेकिन आज जयद्रथ के वध के बाद भी सूरज डूबा किन्तु युद्ध की समाप्ति का शंख […]

Continue reading