भगवान शिव कौन हैं? | Who is Lord Shiva in hindi

भगवान शिव कौन हैं? | Who is Lord Shiva in hindi

Bhagwan Shiv Kaun hai?

शिव भगवान हैंशिव का अर्थ है कल्याण। जो सदैव ही कल्याण करें वो शिव हैं। भगवान शिव देवों के भी देव महादेव हैं। ये सृष्टि के संहारकारक हैं। ब्रह्मा सृष्टि को बनाते हैं, विष्णु उसका पालन करते हैं और शिव जी उनका संहार करते हैं।

भगवान शिव कैलाश धाम पर विराजते हैं। इनके परिवार में पार्वती इनकी धर्म पत्नी हैं। गणेश और कार्तिकेय इनके दो पुत्र हैं। नंदी इनके वाहन हैं जो बैल स्वरूप हैं।

भगवान शिव के अनेक नाम हैं। इनमें रूद्र, पशुपतिनाथ, अर्धनारीश्वर, महादेव, भोला, नटराज, महेश, शंकर आदि प्रमुख हैं। ॐ नमः शिवाय इनका पंचाक्षर मन्त्र है। केवल शिव शिव कहने मात्र से ही कहने वाले और सुनने वाले का कल्याण होता है।

शिव जैसा दूसरा कोई नहीं है क्योंकि भगवान शिव शिव हैं। इन जैसा और कोई भी नहीं हो सकता। इनसे निराला कोई नहीं हो सकता है। भगवान शिव से बड़ा सृष्टि का चिंतक और कौन हो सकता है। समुद्र मंथन को जरा याद करिये। जब देवता और दैत्यों के बीच में अमृत को लेकर सागर मंथन हो रहा था। तब उस मंथन में सबसे पहले कालकूट विष निकला था। हर जगह लोग मरने लगे, सृष्टि की सबको चिंता होने लगी। तब भगवान शिव ने विष को पीया और सृष्टि को संहार होने से बचाया। विष पीने के कारण भगवान शिव का कंठ नीला पड़ गया और महादेव का नाम पड़ा नील कंठ
भगवान शिव के बारे में एक श्लोक है कि

कर्पूरगौरम करुणावतारम, संसारसारं भुजगेंद्रहारम।
सदावसंतम हृदयारविन्दे, भवम भवानी सहितं नमामि।।
अर्थात- कर्पूर के समान चमकीले गौर वर्णवाले, करुणा के साक्षात् अवतार, इस असार संसार के एकमात्र सार, गले में भुजंग की माला डाले, भगवान शंकर जो माता भवानी के साथ भक्तों के हृदय कमल में सदा सर्वदा बसे रहते हैं, हम उन देवाधिदेव की वंदना करते हैं।

 

भगवान शिव से बड़ा दानी और कोई भी नहीं हो सकता है। जिन्होंने अपने शिष्य रावण को सोने की लंका दान में दे डाली। कोई थोड़ी सी भी भक्ति करले तो शिव प्रसन्न हो जाते हैं। महाशिवरात्रि का व्रत करले तो भी वो शिव के प्रिय हो जाते हैं।

विशेष : भगवान शिव भगवान राम का ध्यान करते हैं, और भगवान राम भगवान शिव का ध्यान करते हैं। ये दोनों एक दूसरे के सेवक, स्वामी और मित्र हैं। इसलिए शिव राम और कृष्ण में भेद बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।

भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग हैं। इन 12 ज्योतिर्लिंग का केवल नाम लेने से सारे पाप नष्ट हो जाते हैं। इन 12 ज्योतिर्लिंग को जानने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें

पढ़ें : 12 ज्योतिर्लिंग के नाम

पढ़ें : शिव पार्वती विवाह कथा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *