sitaradha

Difference Between Radha and Sita in hindi

Difference Between Radha and Sita in hindi

राधा और सीता के बीच अन्तर

कुछ लोग अपनी बुद्धिनुसार कहते हैं कि सीता जी और राधा रानी दोनों अलग अलग हैं। लेकिन मोरारी बापू राम कथा में कहते हैं कि

किसी ने पूछा कि राधाजी को हम प्रियाजू कहते हैं और सीताजी को हम सियाजू कहते हैं। उसमें अंतर क्या है?

तत्वत: कोई अंतर नहीं है बाप …….अंतर है तो थोड़ा है और वो इतना है –

सियाजू सेविका है।
प्रियाजू प्रेमिका है।

राधा रूठती है …मनाना पड़ता है।
1 प्रसंग भी नहीं कि सियाजू रूठी हो और उनको मनाना पड़ा।

राधाजी ग्रामीण स्त्री है।
सियाजू नागरी स्त्री है।

प्रियाजू राधिका गांव छोड़कर कभी नगर में नहीं गई।
सियाजू गाँव में गई है। जब वनवास की य़ात्रा में सीताजी गाँव गाँव घूमी है।

प्रियाजू की कोई अग्नि कसौटी नहीं, हाँ विरहाग्नी में उसको तपाया गया।
सिया की अग्नि कसौटी वो प्रियाजू के जीवन में नहीं है।

प्रियाजू को कभी ठाकुर ने दुर्वाद कहा हो ऐसा अभी तक मेरी जानकारी में नहीं आया ….हाँ कठोर शब्द प्रियाजू ने कृष्ण को ज़रूर सुनाये।
सियाजू को कठोर शब्द सहने पड़े।

बापू के शब्द
मानस सिया
जय सियाराम

पढ़ें : मोरारी बापू के वाक्य
पढ़ें : सच कैसे बोलना चाहिए



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *