Satsang aur Kusang Kya hai?

Satsang aur Kusang Kya hai? सत्संग और कुसंग क्या है? सत्संग और कुसंग में क्या अंतर है? मोरारी बापू राम कथा में समझा रहे हैं कि कुसंग(Kusang) क्या है? सतसंग(Satsang) क्या है? उसका थोड़ा विश्लेषण …analysis …. 1. काम कुसंग है। राम सतसंग है। रति विहीन काम कुसंग है, केवल काम कुसंग है। भरत कहते हैं […]

Continue reading


5 June : World Environment Day in hindi

5 June : World Environment Day in hindi 5 जून : विश्व पर्यावरण दिवस    विश्व पर्यावरण दिवस(World Environment Day) पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण हेतु पूरे विश्व में मनाया जाता है। 5 जून 1974 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस(vishwa paryavaran diwas ) मनाया गया। लेकिन ये ख़ुशी की बात नहीं है। किसी का जन्म नहीं […]

Continue reading


Ganga Yamuna Nadi Bachao : Morari bapu ka nivedan

Ganga Yamuna Nadi Bachao : Morari bapu ka nivedan गंगा यमुना नदी बचाओ :  मोरारी बापू का निवेदन   आज भारत देश की बड़ी समस्याओं में से एक है कि सभी नदियां दूषित और प्रदूषित होती जा रही है। इन्हें बचाना बहुत जरुरी है। अब इनके लिए कुछ ठोस कदम उठाने की जरुरत है, नहीं तो […]

Continue reading


Guru Shishya ka sambandh kaisa ho?

Guru Shishya ka sambandh kaisa ho? गुरु शिष्य का सम्बन्ध कैसा हो? मोरारी बापू “मानस श्री” राम कथा में बताते हैं कि   जब कोई जीवित बुद्धपुरूष विदा ले …तो रोना कायरता नहीं …. रोना ही चाहिये। अमीर खुसरो के मुर्शिद निजामुद्दिन औलिया जब देह त्याग करते हैं और अमीर खुसरो को जब पता लगा […]

Continue reading


Guru Kripa/Shastra kripa Ka mehtav(importance)

Morari Bapu all Quotes Thoughts in hindi

Guru Kripa/Shastra kripa Ka mehtav(importance) गुरु कृपा/शास्त्र कृपा का महत्व   श्री मोरारी बापू, संत.. राम कथा में कहते हैं कि गुरू कृपा क्या नहीं कर सकती…. शास्त्र कृपा क्या नहीं कर सकती? अध्यात्म को अभ्यास की ज़रूरत नहीं है ….सूत्र याद रखियेगा।   इसका मतलब अभ्यास नहीं करना ऐसा नहीं,अभ्यास करना चाहिये। अध्ययन, स्वाध्याय, […]

Continue reading


Manav /Manushya/Insaan kaise bane

Manav /Manushya/Insaan kaise bane  how to be a human in hindi मानव/मनुष्य/इंसान कैसे बनें?   मोरारी बापू राम कथा गाते हुए बताते हैं कि    भगवान को कष्ट ही नहीं हो अगर हम थोड़ा समझ जायें तो …. ईश्वर को बीच में लाने की ज़रूरत ही नहीं …..मानव बनने के लिये कहाँ कोई मेहनत करनी […]

Continue reading