Mahashivratri Kyo Manai jati hai Story in hindi

Mahashivratri Kyo Manai Jati hai Story in hindi महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती है(कथा)   Shiv शिव का अर्थ होता है कल्याण। जो कल्याणकारी है वही शिव हैं। और शिवरात्रि(Shivratri) का अर्थ होता है भगवान शिव की याद में जो रात गुजर जाये। वो शिवरात्रि बन जाती है। इसलिए किसी भी मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी […]

Continue reading


Shiv-Parvati Story(katha) in hindi

Shiv-Parvati Story(katha) in hindi शिव-पार्वती कथा(कहानी) मुनि याज्ञवल्क्य भरद्वाजजी जी से कहते हैं- सिव पद कमल जिन्हहि रति नाहीं। रामहि ते सपनेहुँ न सोहाहीं॥ शिवजी के चरण कमलों में जिनकी प्रीति नहीं है, वे श्री रामचन्द्रजी को स्वप्न में भी अच्छे नहीं लगते। सती ने भगवान राम की परीक्षा ली थी। शिव ने सती का मन […]

Continue reading


Shiv-Parvati Vivah Story(katha) in hindi

Shiv-Parvati Vivah Story(katha) in hindi  शिव पार्वती विवाह कथा(कहानी) आपने पढ़ा की सती ने अपनी देह का त्याग किया और फिर उन्होंने पार्वती के रूप में जन्म लिया। पार्वती ने शिव की तपस्या की और भोले नाथ ने कामदेव को जलाकर भस्म कर दिया। ब्रह्मादि देवताओं ने ये सब समाचार सुने तो वे वैकुण्ठ को […]

Continue reading


Parvati birth story(katha) in hindi

Parvati  birth story(katha) in hindi पार्वती माता जन्म कथा(कहानी) आपने पढ़ा की सती ने श्री राम जी की परीक्षा ली। भगवन शंकर जी ने सती का त्याग किया और सती ने फिर अपनी देख का त्याग कर दिया। सतीं मरत हरि सन बरु मागा। जनम जनम सिव पद अनुरागा॥ तेहि कारन हिमगिरि गृह जाई। जनमीं पारबती […]

Continue reading


Sati Death story(katha) in hindi

Sati Death story(katha) in hindi सती मृत्यु(देह त्याग) कथा   आपने पढ़ा की सती ने भगवान राम की परीक्षा ली थी और शिव जी ने सती का मन से त्याग कर दिया था। उसी समय दक्ष प्रजापति हुए। ब्रह्माजी ने सब प्रकार से योग्य देख-समझकर दक्ष को प्रजापतियों का नायक बना दिया॥ जब दक्ष ने […]

Continue reading


Sati Shiv story(katha) in hindi

Sati Shiv story(katha) in hindi सती शिव कथा  संत महात्मा बताते हैं-ये जो रामचरितमानस की चौपाई हैं वो साधारण चौपाई नही है। एक एक मन्त्र है। इसलिए हो सके तो चौपाई भी याद कर लीजिये एक बार त्रेता जुग माहीं। संभु गए कुंभज रिषि पाहीं॥ संग सती जगजननि भवानी। पूजे रिषि अखिलेस्वर जानी॥ एक बार त्रेता […]

Continue reading