Shiv Sadhna Kaise Karen?

shivling

Shiv Sadhna Kaise Karen? शिव साधना कैसे करें? How to do Lord Shiva Sadhna in hindi भगवान शिव जो परम कल्याणकारी हैं। जिनके नाम का अर्थ है- कल्याण। मोरारी बापू की केदारनाथ धाम में कथा हुई मानस शंकर। इसी कथा में एक साधक ने चिट्ठी के माध्यम से बापू से प्रश्न किया। जिसका उत्तर बापू […]

Continue reading


Shiv 12 Jyotirlinga Name(naam) aur Mahima

shivling

Shiv 12 Jyotirlinga Name(naam) aur Mahima  शिव 12 ज्योतिर्लिंग के नाम और महिमा    भगवन शिव के ज्योतिर्लिंगों में 12 सबसे महत्वपूर्ण हैं। जिनकी महिमा अनंत हैं। इनके दर्शन की तो महिमा अनंत है ही साथ में केवल इनके नाम लेने की महिमा भी अनन्त है। जो भी व्यक्ति इन 12 शिवलिंग के नामो का […]

Continue reading


MahaShivratri Vrat Kaise Karte hai -Vidhi aur Niyam

Sati Death story(katha) in hindi

MahaShivratri Vrat Kaise Karte hai -Vidhi aur Niyam महाशिवरात्रि व्रत कैसे करते  है ? विधि और नियम    भगवान शिव के व्रत की विधि बहुत ही सरल है। किसी लंबे चौड़े नियम या विधि-विधान में फसने की जरुरत नहीं है। आज कल कुछ लोग भगवान के नाम पर कुछ भी लंबी चौड़ी विधि बता देते है। […]

Continue reading


Mahashivratri Vrat Katha/Story in hindi

Shiv-Parvati Story(katha) in hindi

Mahashivratri Vrat Katha Story in hindi महाशिवरात्रि व्रत की कथा/कहानी एक बार माँ पार्वती जी ने भगवान भोलेनाथ से पूछा, ‘ऐसा कौन-सा श्रेष्ठ तथा सरल व्रत-पूजन है, जिससे मृत्युलोक के प्राणी आपकी कृपा सहज ही प्राप्त कर लेते हैं?’ भगवान शिवजी ने पार्वती को ‘शिवरात्रि’ का व्रत बताया और यह कथा सुनाई – एक बार […]

Continue reading


Mahashivratri Kyo Manai jati hai Story in hindi

Shiv-Parvati Vivah Story(katha) in hindi

Mahashivratri Kyo Manai Jati hai Story in hindi महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती है(कथा)   Shiv शिव का अर्थ होता है कल्याण। जो कल्याणकारी है वही शिव हैं। और शिवरात्रि(Shivratri) का अर्थ होता है भगवान शिव की याद में जो रात गुजर जाये। वो शिवरात्रि बन जाती है। इसलिए किसी भी मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी […]

Continue reading


Shiv-Parvati Story(katha) in hindi

Shiv-Parvati Story(katha) in hindi

Shiv-Parvati Story(katha) in hindi शिव-पार्वती कथा(कहानी) मुनि याज्ञवल्क्य भरद्वाजजी जी से कहते हैं- सिव पद कमल जिन्हहि रति नाहीं। रामहि ते सपनेहुँ न सोहाहीं॥ शिवजी के चरण कमलों में जिनकी प्रीति नहीं है, वे श्री रामचन्द्रजी को स्वप्न में भी अच्छे नहीं लगते। सती ने भगवान राम की परीक्षा ली थी। शिव ने सती का मन […]

Continue reading