How many times we should read Hanuman Chalisa in hindi

hanuman chalisa

How many times we should read Hanuman Chalisa in hindi – हनुमान चालीसा कितनी बार पढ़नी चाहिए जय सियाराम। लोग संसय में रहते हैं कि हनुमान चालीसा का पाठ कितनी बार करना चाहिए? अगर हनुमान चालीसा पूरी न पढ़ पाए तो क्या होगा? क्या हमें पूरी हनुमान चालीसा पढ़नी चाहिए? और कुछ लोगों ने हनुमान चालीसा […]

Continue reading


Bhim Hanuman Milan Story in hindi

bhim hanumanji

Bhim Hanuman Milan Story in hindi भीम हनुमान के मिलन की कहानी     एक बार द्रौपदी ने एक सुगन्धित कमल को देखा और भीम से कहा- ‘भीम! देखो तो, यह दिव्य पुष्प कितना अच्छा और कैसा सुन्दर है! इसकी सुगंध कितनी अच्छी है। मैं इसे धर्मराज को भेंट करूंगी। तुम मेरी इच्छा की पूर्तिके […]

Continue reading


Why didn’t Hanuman killed Ravan in hindi?

hanuman

Why didn’t Hanuman killed Ravan in hindi?  हनुमान ने रावण को क्यों नहीं मारा  Hanuman ne Ravan ko Kyo nhi mara? एक प्रश्न दिमाग में आता है कि क्या हनुमानजी रावण को मार सकते थे? तो इसका जवाब आपको जरूर मिलेगा। इस प्रश्न का जवाब खुद श्री हनुमान जी ने भीम को दिया है। इससे […]

Continue reading


Hanuman Shani Dev Story in hindi

hanuman shanidev

Hanuman Shani Dev Story in hindi हनुमान और शनि देव की कहानी Hanuman or Shani dev ki kahani हनुमान जी राम जी के भक्त हैं। अपने प्रभु श्री राम जी के भजन में लगे रहते हैं। इन पर कोई भी विपदा आ नहीं सकती। कोई विपदा आती भी है तो राम नाम के सहारे दूर […]

Continue reading


Hanuman Chalisa Benefits in hindi

Power of Hanuman

Hanuman Chalisa Benefits in hindi हनुमान चालीसा के लाभ  आप सभी राम भक्त , हनुमान भक्त श्री हनुमान चालीसा का पाठ करते होंगे। आप सबके मन में होगा की हनुमान चालीसा के फायदे(hanuman chalisa ke fayde) क्या हैं? हनुमान चालीसा के लाभ(hanuman chalisa ke labh) क्या हैं। तो बंधुओं हनुमान चालीसा के अनंत लाभ(labh) और फायदे(fayde) […]

Continue reading


Hanuman Chalisa with meaning in Hindi

Power of Hanuman

Hanuman Chalisa with meaning in Hindi हनुमान चालीसा अर्थ सहित  ।।दोहा।। श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुर सुधार | बरनौ रघुवर बिमल जसु , जो दायक फल चारि | अर्थ: शरीर गुरु महाराज के चरण कमलों की धूलि से अपने मन रूपी दर्पण को पवित्र करके श्री रघुवीर के निर्मल यश का वर्णन […]

Continue reading