Nidhivan : Vrindavan Raas Sathli Story/katha in hindi

Nidhivan : Vrindavan Raas Sathli Story/katha in hindi निधिवन : वृन्दावन रास स्थली कथा/कहानी श्रीधाम वृन्दावन(Vrindavan) में एक स्थान है निधिवन(Nidhivan)। जिसे दिव्य वृन्दावन भी कहते हैं। जो बड़ा ही पवित्र, दिव्य, रहस्यमयी स्थान है। जहाँ आज भी प्रतिदिन रात्रि 12 बजे से सुबह 4 बजे तक रास(Raas) होता है। भगवान श्री कृष्ण अपनी गोपियों के […]

Continue reading


Life/Jivan me Kya Karna Chahiye

Life/Jivan me Kya Karna Chahiye जीवन में क्या करना चाहिए? जीवन में क्या करना चाहिए?(Jivan me kya karna chahiye) ये प्रश्न सभी के जीवन का एक महत्वपूर्ण प्रश्न है। हमने किसी फुटबॉल के खिलाड़ी को खेलते हुए देखा तो मन में आता है हम क्यों न फुटबॉल के खिलाड़ी बन जाते हैं। किसी क्रिकेटर को […]

Continue reading


Swami Ram Tirtha Story in hindi

Swami Ram Tirtha Story in hindi स्वामी रामतीर्थ जी की कहानी   स्वामी रामतीर्थ जी एक आदर्श विद्यार्थी, आदर्श गणितज्ञ, समाज सुधारक, देशभक्त, दार्शनिक और प्रज्ञावान संत थे। इनके जीवन का एक एक संस्मरण हमें सत्य की ओर लेकर जाता है। ये अपने आपको बादशाह कहते थे। बादशाह रामतीर्थ। खुद को ये भले ही बादशाह […]

Continue reading


Baba Farid Story in hindi

Baba Farid Story in hindi बाबा फरीद की कहानी/कथा   ये बाबा फरीद(Baba Farid) का जो मैं स्मरण करता हूँ। रोज़ा के दिन चल रहे हैं …रमजान चल रहे हैं इस्लाम धर्म के। फरीद साहब के जीवन का 1 प्रसंग है छोटा सा। रोज़ा चल रहा था फरीद साहब का और जलालुद्दिन सूफी संत मिलने आये। […]

Continue reading


Satsang aur Kusang Kya hai?

Satsang aur Kusang Kya hai? सत्संग और कुसंग क्या है? सत्संग और कुसंग में क्या अंतर है? मोरारी बापू राम कथा में समझा रहे हैं कि कुसंग(Kusang) क्या है? सतसंग(Satsang) क्या है? उसका थोड़ा विश्लेषण …analysis …. 1. काम कुसंग है। राम सतसंग है। रति विहीन काम कुसंग है, केवल काम कुसंग है। भरत कहते हैं […]

Continue reading


5 June : World Environment Day in hindi

5 June : World Environment Day in hindi 5 जून : विश्व पर्यावरण दिवस    विश्व पर्यावरण दिवस(World Environment Day) पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण हेतु पूरे विश्व में मनाया जाता है। 5 जून 1974 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस(vishwa paryavaran diwas ) मनाया गया। लेकिन ये ख़ुशी की बात नहीं है। किसी का जन्म नहीं […]

Continue reading